Cantonment Board Dagsahai

छावनी परिषद दगशाई


रक्षा मंत्रालय

Cantonment Board Dagsahai
Banner
हमारे बारे मे

दगशाई छावनी एक 5689 फीट ऊंची पहाड़ी के ऊपर जो की सोलन से लगभग 11 किमी की दूरी पर कालका-शिमला राजमार्ग के किनारे स्थित है। दगशाई छावनी की स्थापना 1847 में पटियाला के महाराजा से मुफ्त में हासिल किये गये पांच गांवों को मिलाकर की गई थी। इसके नाम की उत्पत्ति के बारे में कोई प्रमाणीकृत रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है एक किंवदंती के अनुसार यह नाम उर्दू वाक्यांश "दाग-ए-शाही" से लिया गया था, जिसका अर्थ है “शाही मुहर”। मुगल समय के दौरान कैदियों को ब्रांडेड दगशाई गांवों को भेजा जाता था। दगशाई में एक जेल का निर्माण 1849 में केंद्रीय जेल के रूप में किया गया। यह जेल तब प्रसिद्ध हुई जब कई आइरिश स्वतंत्रता सेनानियों को यहां मार डाला गया, इस परिस्थिति ने महात्मा गांधी को आकलन करने के लिए प्रेरित किया । कामागटा मारू के चार क्रांतिकारियों को भी दगशाई में मार डाला गया था। दगशाई केंद्रीय जेल अब एक संग्रहालय में परिवर्तित हो रही है।

छावनी परिषद्, दगशाई कैन्टोनमेंट्स एक्ट, 2006 के तहत गठित एक सांविधिक निकाय है छावनी में नगरपालिका निकाय के रूप में छावनी परिषद् का उद्भव मूल रूप से इन क्षेत्रों में उचित स्वच्छता, स्वास्थ्य और स्वच्छता के रखरखाव की आवश्यकता के उत्तर में हुआ था। छावनी परिषद् के कार्यों का दायरा नगरपालिका प्रशासन की संपूर्ण सीमा तक फैला हुई है। बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के अलावा, छावनी परिषद्, दगशाई सार्वजनिक कल्याण का भी प्रबंधन करता है I

वर्तमान में छावनी का कुल क्षेत्रफल 820.27 एकड़ है। 2011 की जनगणना के अनुसार सैनिकों सहित छावनी की कुल जनसंख्या 2904 है, दगशाई छावनी बोर्ड को कक्षा तृतीय छावनी के रूप में वर्गीकृत किया गया है और इसमें 12 सदस्यों (चुने गये और आधिकारिक सदस्यों के बराबर प्रतिनिधित्व) का समावेश है । कैन्टोनमेंट्स एक्ट 2006 के तहत, छावनी बोर्ड को कई महत्वपूर्ण नगरपालिका कार्य जैसे सड़क, बिजली, निर्माण गतिविधि नियमन, जल आपूर्ति, स्वच्छता, स्वास्थ्य, प्राथमिक शिक्षा, सार्वजनिक सुरक्षा और नगर नियोजन सौंपे गये है। इन विनियामक कार्यों के अलावा, छावनी बोर्ड सार्वजनिक सुधार योजनाओं के अंतर्गत कई अतिरिक्त उपायों का भी कार्य करता है और सामान्य जनता को उत्कृष्टता प्राप्त करने और सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए निरंतर प्रयास करता है। दगशाई कैंटमेंट बोर्ड ने चुनौतियों को स्वीकार कर नागरिक सुविधाओं पर जोर देकर एक लंबा सफर तय किया है तथा जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने और सेवाओं की सर्वोत्तम गुणवत्ता प्रदान करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं।

सूचना पट्ट


सार्वजनिक सूचना (अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह के संबंध में) नया

ई-निविदा सूचना (कैंट बोर्ड दगशाई में कुशल / अर्धकुशल / अकुशल जनशक्ति प्रदान करने के लिए IVth कॉल) नया

सार्वजनिक सूचना (विश्व पर्यावरण दिवस के संबंध में) नया

ई-निविदा सूचना (कैंट बोर्ड दगशाई में कुशल / अर्धकुशल / अकुशल जनशक्ति प्रदान करने के लिए IIIrd कॉल) नया

सार्वजनिक नोटिस (घास चरान अधिकारों के आकलन के संबंध में)नया

सार्वजनिक नोटिस (घास कटान अधिकारों के आकलन के संबंध में) नया

सार्वजनिक नोटिस (प्लाट के आधार पर घास कटान अधिकारों के आकलन के संबंध में) नयानया

सार्वजनिक नोटिस (गेराज संख्या 3 और स्टाल संख्या 12 के आकलन के संबंध में) नया

ई-निविदा सूचना (कैंट बोर्ड दगशाई में कुशल / अर्धकुशल / अकुशल जनशक्ति द्वितीय कॉल प्रदान करने के लिए)

ई-टेंडर नोटिस (कैंट बोर्ड दगशाई में एमईएस एसएसआर 2010 (जोन 'सी') के अनुसार टर्म कॉन्ट्रैक्ट) 2018-19

ई-निविदा सूचना (कैंट बोर्ड दगशाई में कुशल / अर्धकुशल / अकुशल जनशक्ति प्रदान करने के लिए)

सार्वजनिक नोटिस (गेराज संख्या 3 के आकलन के संबंध में)

अल्प-अवधि निविदा सूचना(छावनी बोर्ड में सार्वजनिक शौचालयों में जैव-डायजेस्टर (BIO DIGESTER) टैंकों की आपूर्ति और स्थापना।)

अल्प-अवधि निविदा सूचना (Supply and installation of 1 TPD SWM plant using 500 kgPD composting machine and other equipments)

सार्वजनिक सूचना (जनता दरबार )

सार्वजनिक सूचना (ऑक्शन)

जन्म एवं मृत्यु पंजीकरण

मुखपृष्ठ   |   हमारे बारे मे  |  हमारा पता

© प्रकाशनाधिकृत छावनी परिषद् , दगशाईु

डिजाइन और विकसित: कपिल मोहन चौहान (कम्पयूटर प्रोग्रामर)

अस्वीकरण: इस वेबसाइट पर सही जानकारी उपलब्ध कराने के सभी प्रयासों के बावजूद भी, यहाँ दी किसी जानकारी में किसी त्रुटि के कारन, किसी व्यक्ति को हुए नुक्सान के लिए मुख्य अधिसाशी अधिकारी, छावनी परिषद् दगशाई जिम्मेवार नहीं होगा | कृपया पायी गयी किसी भी त्रुटि कि जानकारी मुख्य अधिसाशी अधिकारी, छावनी परिषद् दगशाई को दें | वेबसाइट विकास के अंतर्गत है, इसलिए हो सकता है कि कुछ कड़ियाँ ठीक से काम न करें |